GupShup Study
 
  
फोबिया एक डर या हकीकत - जाने फोबिया के बारे में सब कुछ
GupShup Study

फोबिया एक डर या हकीकत - जाने फोबिया के बारे में सब कुछ

02-Jul-2016 | | Total View : 0 |

दुर्भीति या फोबिया (Phobia) एक प्रकार का मनोविकार है जिसमें व्यक्ति को विशेष वस्तुओं, परिस्थितियों या क्रियाओं से डर लगने लगता है। ‘फोबिया’ ग्रीक शब्द Phobos से निकला हैं. फोबिया और डर, दोनों में अंतर हैं. यानि फोबिया में विशेष वस्तुओं की उपस्थिति में घबराहट होती है जबकि वे चीजें उस वक्त खतरनाक नहीं होती है। यह एक प्रकार की चिन्ता की बीमारी है। इस बीमारी में पीड़ित व्यक्ति को हल्के अनमनेपन से लेकर डर के भयावाह दौरा तक पड़ सकता है।

दुर्भीति की स्थिति में व्यक्ति का ध्यान कुछ एक लक्षणों पर केन्द्रित हो सकता है, जैसे-दिल का जोर-जोर से धड़कना या बेहोशी लगना। इन लक्षणों से जुड़े हुए कुछ डर होते है जैसे-मर जाने का भय, अपने उपर नियंत्रण खो देने या पागल हो जाने का डर।

phobia के कुछ लक्षण:

यदि किसी को phobia हो गया है तो उसमे निम्न लक्षण दिखेंगें-
1. व्यक्ति उन चीजो से दूर रहता है जिसकी वजह से phobia  होता है।
2. सिरदर्द पेटदर्द तनाव भी हो सकता है।
3. अधिक चिंता से दौरा भी पड़ सकता है।
4.किसी वस्तु से बेकार मे डरना      

Phobia तीन प्रकार का होता है-

1 - specific phobia
‌‌‌इस प्रकार का phobia किसी भी व्यक्ति को होने पर वह उस ‌‌‌चीज से डरने लगता है जिससे उसको phobia हुआ है। जैसे किसी को सांप से phobia हुआ है। तो वह सांप से डरने लगेगा ।यह डर उसके मनमे असंगत मात्रा ‌‌‌मे होता है।इस प्रकार के phobia के अंदर किसी वस्तु से व जीव आदि से होने वाला phobia आता है।किसी वस्तु के अंदर कोई भी निर्जिव वस्तु से हो सकता है और ‌‌‌जीवित वस्तु के अंदर मकड़ा सांप आदि से हो सकता है।
 कई व्यक्तियों को खून को देखकर बहुत ही डर लगता है। यदि वे उससे असंगत मात्रा मे डरने लगते हैं यानि उनको खून से phobia होता है खून को देखकर वे अलग अलग प्रकार की कल्पना करने लगते हैंजैसे अब उसके खुद का खून होगा । कुछ इसी प्रकार से । यह specific phobia के अंदर आता है।

2 - Agoraphobia  
Agoraphobia के हो जाने पर व्यक्ति किसी सर्वाजनिक स्थान पर जाने से डरने लगता है जैसे कि भीड़भाड़ वाले स्थानों पर और किसी आम स्थान पर ऐसे स्थान पर वह यह सोच कर नहीं आते हैं कि यहांपर जल्दी ही कोई बस या गाडी आयेगी और उनको टक्कर मार देगी. इस ‌‌‌प्रकार के बेकार का डर रोगी केमन के अंदर बैठ जाता है. इस प्रकार के phobia का रोगी खरीददारी और भीड़भाड़ के अन्दर जाना पसंद नहीं करता है।

3 - Social phobia 
इस प्रकार का phobia  जिस किसी व्यक्ति को हो जाता है वह किसी दूसरे लोंगों से बात करने मेघबराहट अनुभव करता है। वह किसी से मिलने जुलने की कोई इच्छा नहीं करता है।और ऐसे किसी प्रोग्राम के अंदर भाग नहीं लेता जिसमे उसको बहुत से लोगों के सामने कुछ बोलना हो। यानि इस प्रकारका phobia होने पर व्यक्ति के दिमाग मे एक विचार आता है । वह वहां पर जायेगा तो लोग क्या सोचेगें? वह कुछ बोलेगा तो लोग गलत तो नहीं समझेंगें ? यानि इस प्रकार के question  उसके दिमाग मे बार बार आते हैं।

फोबिया के कुल मिलाकर 530 प्रकार होते हैं. लेकिन अब इनमें और भी इजाफा होता जा रहा है. कुछ सामान्य फोबिया के नाम यहां दिए जा रहे हैं...

  1. “Trypophobia” छोटे-छोटे छिद्रो वाली वस्तु को देखकर लगने वाला डर हैं।
  2. यदि आप पीला रंग देखकर डर जाते हैं तो आपको “Xanthophobia” हैं।
  3. 666 नंबर से सबंधित डर को “Hexakosioihexekontah­exaphobia” कहते हैं।
  4. Socialphobia : इस फोबिया से ग्रस्त व्यक्ति किसी भी अंजान व्यक्ति या समूह के सामने आने से, उनसे बात करने से घबराता है। उसके भीतर हमेशा यह डर रहता है कि कहीं वह कुछ गलत न बोल दे। कहीं उसकी इमेज न खराब हो जाए।
  5. Agoraphobia : कुछ लोग भीड़-भाड़ भरे स्थानों, बाजारों या बस-ट्रेन में सफर करने से घबराते हैं। इसलिए वह ऐसी जगहों पर जाने से कतराते हैं और अकेले रहना और सफर करना पसंद करते हैं।
  6. अंधेरे से डर को “Nyctophobia” कहा जाता हैं। इसमें इंसान किसी अंधेरी जगह पर जाने से डरता हैं। यह डर इस तरह से मन मे बैठ जाता हैं की अगर वो इंसान सो रहा हैं और अचानक अंधेरा हो जाए तो उसकी नींद उसी समय खुल जाती हैं।
  7. ऊँचाई से डर को “Acrophobia”(एक्रोफोबिया) कहा जाता हैं। इसमें इंसान को उचाई से बहुत ज्यादा डर लगता हैं। ऊँची जगह पर पहुंचते ही ऐसे इंसान को को panic attack आ जाता हैं। या फिर उसे उल्टियाँ शुरू हो सकती हैं।
  8. कुत्तों से डर को “Cyanophobia” कहा जाता हैं। वैसे तो बहुत लोग कुतों से डरते हैं और यह आम बात हैं लेकिन Cyanophobia वाले इंसान घर में बैठ कर भी कुतों के गली मे भौंकने से डर जाते हैं।
  9. किसी संत-साधु या पादरी को देखकर होने वाले डर को “Papaphobia” कहते हैं.
  10. Phobia होने के डर को “Phobophobia” कहते हैं।
  11. Mobile Phone के बिना रहने से और Signal ना मिलने से होने या लगने वाले डर को “Namophobia” कहते हैं।
  12. “Anatidaephobia” एक अजीब तरह का डर होता हैं जिसमे आपको लगता हैं कि कोई Duck (बत्तख) आपको कही से व किसी प्रकार से देख रहा हैं।
  13. किसी सुंदर लड़की को देखकर होने वाले डर को “Caligynephobia” कहते हैं।
  14. जब आपका बीयर का गिलास खाली हो जाता हैं और उसके बाद आपके अंद जो डर महसूस होता हैं उसे “Cenosillicaphobia” कहते हैं।
  15. उसी डर को “Cherophobia” कहते हैं जब आपको लगता हैं कि कही ज्यादा खुश होने से भविष्य में कुछ दुखद न हो जाए।
  16. किसी के प्यार मे पड़ने के डर को “Philophobia” कहते हैं।
  17. लंबे शब्दो को देखकर होने वाले डर को “Hippopotomonstrosesq­uippedalio” कहते हैं। (ये भी तो लंबा ही हैं )
  18. Ombrophobia बारिश से सबंधित डर हैं जिसमे लगता हैं कि बारिश की वजह से गंभीर आपदा हो सकती हैं यह ज्यादातर किसानो में होता हैं।
  19. शादी होने के डर को व किसी रिश्तेदारी मे बंधने के डर को “Gamophobia” कहते हैं। (शादी का भी डर होता हैं आज पता चला )
  20. इंजेक्शन से डर को “Trypanophobia” (ट्राइपानोफोबिया) कहा जाता हैं। इसमे इंसान injection से इतना डरता हैं कि उसके डर से docter के पास तक नही जाता। injection देख कर उसका दिल तेजी से धड़कने लगता हैं।
  21. Germs या Dust के डर को इसे “माइसोफोबिया” कहा जाता हैं इसमें इंसान को थोड़ी सी धूल होने पर पर भी घबराहट, सीने में दर्द, सांस लेने में दिक्कत, धड़कन बढ़ना, और कंपकंपी जैसी दिक्कतें हो सकती हैं।
  22. अब्लूटोफोबिया यानी कि नहाने से घबराने वाला फोबिया। अक्सर नवजात बच्चों में यह आसानी से पाया जाता है, लेकिन बच्चे ही नहीं बड़े भी इस फोबिया का शिकार हैं। बिना किसी वजह से नहाने से बचना और यदि स्नानघर तक ले भी जाएं, तो बहाना बना कर नहाने से मना करना, यह अब्लूटोफोबिया के लक्षण हो सकते हैं।
  23. कार्यस्थल पर किसी से निंदा ना सहनी पड़े और इस चक्कर में कार्य से ही बचने वाले लोग इस अर्गोफोबिया का शिकार होते हैं। यह वे लोग होते हैं जो पहली बार कोई कार्य कर रहे हों। ऐसे लोगों को यह चिंता सताती है कि यदि काम गलत हुआ तो।
  24. ठीक इसी तरह से कुछ लोग भी सूरज की धूप से बचने के बहाने बनाते हैं। ऐसे लोग हिलियोफोबिया से पीड़ित होते हैं। ऐसा नहीं है कि धूप से उनका कोई नुकसान होगा, लेकिन वह फिर भी उसका सामना नहीं करना चाहते हैं।
  25. क्या किसी दिन आपके साथ ऐसा कभी हुआ है कि आप अपने रसोईघर से कुछ दूरी पर खड़े हैं और रोशनी कम होने के कारण दूर पड़े एक चीज़ को पहचानने की कोशिश कर रहे हैं।
  26. यह तब होता है जब दूर रखी चीज़ डरावनी ना होते हुए भी खौफ़नाक रूप ले लेती है। हो सकता है आपने भी अपने ब्रेड टोस्टर को एक खतरनाक जानवर समझ लिया हो। इस प्रकार का डर ओइकोफोबिया कहलाता है
  27. कॉलरोफोबिया एक ऐसा फोबिया है जिसमें इंसान को बेवजह सर्कस के जोकर से डर लगता है। ऐसा जोकर जो लोगों को हंसाने के लिए आता है, लोगों का मनोरंजन करता है, हो सकता है आपको उससे डर लगता है।
  28. किसी भी प्रकार का फैसला करने से असमर्थ व्यक्ति हो सकता है कि डिसायडोफोबिया से पीड़ित हो। यह एक ऐसा फोबिया है जिसमें पूरी परिस्थिति को समझ लेने के बाद भी व्यक्ति आखिर में फैसला करने से घबरा रहा हो।
  29. क्या आपके साथ कभी ऐसा हुआ है कि आप अपने कमरे से निकलकर नीचे वाले माले पर जाने के लिए सीढ़ियों की ओर बड़े थे और पहली सीढ़ी पर पहुंचते ही अचानक रुक गए। क्यों? ऐसा तब होता है जब किसी इंसान को सीढ़ियां उतरने या साथ ही में चढ़ने से भी डर लगता हो। इसे डिसेंडोफोबिया कहा जाता है।
  30. अचानक कमरे में अकेले होते हुए भी यह महसूस करना कि आपके आसपास कोई है, कोई ऐसा जरूर है जो खतरनाक है। रात को सोते समय भी डर से नींद खुल जाना और यह आभास होना कि आपके पास से कोई गुज़रा है। यह एक प्रकार का फोबिया है, जिसे पैनफोबिया कहा जाता है।
  31. कुछ लोगों को बिजली चमकने से भी डर लगता है। वे सोचते रहते हैं कि कहीं हमारे ऊपर न गिर जाए। इस डर को अंग्रेजी में Astraphobia कहते हैं
  32. 17% व्यक्ति अपने डर (Phobia) की वजह से Depression का शिकार हो जाते हैं।
  33. एक व्यक्ति अपने डर (Phobia) की वजह से किसी वस्तु से नुक्सान पहुँचने से पहले ही बहुत डर जाता हैं। यह उसके दिमाग मे बहुत बड़ी बात होती हैं लेकिन Real Life मे बहुत छोटी।
  34. एक रिसर्च से पता चला हैं कि Phobia वह यादें हैं जो DNA मे बदलाव के कारण पीढ़ी-दर-पीढ़ी आगे बढ़ रही रही हैं।
  35. 11.Alexander the Great, Nepoleon, Mussolini और Hitler इन सभी को Ailurophobia था। जो एक बिल्ली से लगने वाला डर होता हैं।
  36. स्कूल जाने के डर को “Didaskaleinophobia” कहते हैं।
  37. भूतकाल में यदि आपके साथ कुछ बुरा हुआ हैं और अब आपका नये लोगो से भरोसा उठ गया हैं तो उसे “Pistanthrophobia” कहते हैं।
  38. जब कोई गंदा काम कर देता हैं फिर आंख मिलाने से होने वाले डर को “Ommatophobia” कहते हैं।
  39. दांतो के इलाज व देखभाल के डर को “Odontophobia” कहते हैं।

क्या है इलाज?
फोबिया के इलाज के लिए कोई एक खास ट्रीटमेंट नहीं होता है. हर मरीज का फोबिया और उसकी स्थिति अलग-अलग होती है. बीएलके हॉस्पिटल के डॉक्टर नीरज बताते हैं कि फोबिया के इलाज के के लिए मनोवैज्ञानिक थेरेपी और मेडिकेशन्स दोनों बेहद जरूरी हैं. Cognitive Behavioural therapy CBT इसके लिए अच्छा इलाज माना जाता है. जिसमें मरीज की सोच में बदलाव लाया जाता है. फोबिया के ट्रीटमेंट के लिए रोगी के थायरॉयड, ब्लड शुगर, डायबिटीज आदि की जांच करना भी जरूरी होता है.

 

आपकों ये बातें कैसी लगी कमेंट में बताएँ और हमारी दूसरी पोस्ट भी पढ़े।

Share With Friends :  

No any Comment yet!